Blogger Tips and TricksLatest Tips And TricksBlogger Tricks

Tuesday, March 31, 2015

फैक्ट्रियों में इंसानो की जगह बायोनिक चीटियाँ करेगी काम ! A Research Report on Bionic Aunts

SHARE

                                 "बायोनिक चीटीँयो और तितलियों ने की शुरुवात "

अरे ओ छोटू। 

हाँ चाचा। 

कछु सुनत रहो की नाय ?

का चाचा ? का भयो ?

अरे हम सुनत रहे की आने वाले समय में फैक्ट्रियो में इंसानो की जगह चीटियाँ काम किया  करेगी। 

Research report on Bionic aunts in hindi, Bionic aunts will work in factory,definition of bionic aunts, introduction to swarm intelligence in hindi
चाचा ये तो होना ही था क्यों कि  काम करने के मामले में  चीिटयां इंसान से कहीं ज्यादा समझदार और मेहनती होती हैं।  उनको टीम में काम करना अच्छे से आता है। जबकि इंसान  अपनी टीम के सदस्यों कि ही टाँगे खीचने में लगे रहते हैं तो रिजल्ट कहा से देंगे  ?

हाँ शायद ऐसा ही होगा। 

दोस्तों ऊपर लिखी लाइन को पढ़कर  चौकना मत क्यों कि आने वाले समय में फैक्ट्रियो में काम करने वाले  इंसान की  जगह चीटियाँ  लेने वाली हैं। बस अंतर इतना है कि ये चीटियाँ मानव द्वारा निर्मित रोबोट्स  हैं। जिनको बायोनिक चीटियाँ भी कहते हैं। आपने अपने अपने घरो में अक्सर चीटीँयो  की कतरो को देखा होगा उनको गौर से देखने पर आप पायेगे कि चीटीँयो को टीम में काम करने कि कला बहुत अच्छे से आती है।  जिसकी वजह से चीटियाँ अपने लक्ष्य को प्राप्त कर लेती हैं।  चीटियों के इसी गुण से प्रेरित होकर अंट कॉलोनी (  सुवारम् इंटेलिजेंस  तकनीक जिसका उपयोग साइंटिस्ट कई क्षेत्रो में गुणवत्ता लाने के लिए नए प्रोटोकॉल और ऍप्लिकेशन्स बनाने के लिए कर रहे हैं )  तकनीक का प्रयोग करके रोबोट बनाने वाली एक जर्मन इंजीनियर्स कंपनी फेस्टो ने आकार में  आदमी के हाथ के बराबर जितने रोबोट  बनाये हैं। जो बहुत ही तेजी से काम करते हैं। 


शोधकर्ताओं का कहना है ये काम करते समय ये रोबोट अपने अपने दवरा किये गए कार्यो के बारे में एक दुसरे को सुचना आदान प्रदान करते हैं और फिर  इन सूचनाओ के आधार  पर ही कोई निर्णय लेते हैं और  अपने काम को आगे बढ़ाते हैं ताकि  ये एक निर्धारित लक्ष्य  को पूरा कर सके।  इस प्रकार  ये रोबोट टीम भावना से काम करते हैं। ये रोबोट्स दिखने में बिलकुल चीटियों की तरह हैं। जिनमे कुछ इलेक्ट्रिक  सर्किट  और रेडियो मॉडूयल  लगे हुए हैं जिनकी वजह से ये एक दुसरे को सूचना का आदान प्रदान कर सकते हैं।  इनके सिर में 3D स्टीरियां कैमरा फिट है जो उन्हें दूसरी चींटियों को देखने तथा अपने लक्ष्य को पहचानने में इनकी मदद करता है। इनमें लगे सेंसर्स इन्हें आसपास के कीड़ों को पहचानने में मदद करते हैं। इस प्रकार इनमे  वायरलेस प्रणाली की मदद से क्रियाएं संचालित होती हैं। निचे  दिए लिंक पर क्लिक करके आप यू ट्यूब  पर इनके वीडियो को देख सकते हैं। 




इसी तरह इस कंपनी के  शोधकर्ताओं  ने कुछ रोबोटिक तितलियों को भी  बनाया  है । यह एक छोटे पैमाने पर किया गया प्रयोग था। अभी फैक्ट्रियो में इंसानो की जगह लेने में बायोनिक   चीटियों और तितलियों  को  बहुत वक़्त (कई वर्ष  ) लगेगा। 

Keywords: Bionic Ants, Swarm Intelligence, Ant Colony , Festo

6 comments:

  1. विदेशों में ऐसे कारनामें होते रहते हैं ..यहाँ हमारे देश में में इंसान ही रोबोट हैं ...यदि कभी भूले से यहाँ यह होगा तो कई लोगों की रोजी रोटी का खतरा उत्पन्न हो जाएगा ...
    ..रोचक जानकारी प्रस्तुति हेतु धन्यवाद !

    ReplyDelete
    Replies
    1. कविता जी सही कहा आपने हमारे देश में इंसान ही रोबोट हैं . लेकिन आपका ध्यान थोड़ा इस और आकर्षित करना चाहुगा !

      (1) पहले नहर नाले खोदने के लिए 40 - 50 आदमी फावड़े चलते थे आज 1 जे.सी.बी. मशीन आती है झट से खोद कर चली जाती है !

      2) पहले शहरो में नालो की सफाई आदमी किया करते थे आज . जे.सी.बी. मशीन करती है !

      3) पहले हमारे गाओं में किसान की बैल गाडी या ट्रॉली से गन्ने के गठडो को 5-6 आदमी अपने सर पर रखकर मील पर गन्ने ले जाने वाले ट्रक में डालते थे आज ये काम भी मशीन करती है एक बार में ५ से ६ गट्ठे एक साथ दाल देती है !

      4) शिक्षा में यही चल होने लगा है धीरे धीरे सब कुछ नेट पर अवेलेबल है , टीचर की जगह ऑनलाइन लर्निंग, ऑनलाइन स्टडी मटेरियल यहाँ तक की ऑनलाइन क्वेरी सॉल्विंग ने ले ली है !

      4) डाकिये का जायदातर काम भी ईमेल मोबाइल फ़ोन करने लगे हैं !

      5) पहले शादी में बरात में चढ़त के समय बैंड बाजे वाले आते थे जिसमे काम से काम 15 से 20 लोग होते थे उनकी रोजी रोटी चलती थी . आज उनकी जगह डी. जे. ने ले ली है एक डी.जे. और 2 आदमियो से काम चल जाता है !

      मशीन धीरे धीरे आदमी की जगह लेती जा रही है बस हमको महूसस काम होता है क्यों की हमको काम करने कोई दूसरा विकल्प मिल जाता है !

      Delete
  2. रोचक एवं ज्ञानवर्धक पोस्ट

    ReplyDelete
  3. सभी पाठकगणो का शुक्रिया !

    ReplyDelete
  4. सभी पाठकगणो का शुक्रिया !

    ReplyDelete

अगर आपको पोस्ट पसंद आये तो कृपया ब्लॉग का अनुसरण करें और पोस्ट पर टिप्पणी के रूप में अपने सुझाव दे !

Recent Posts