Blogger Tips and TricksLatest Tips And TricksBlogger Tricks

Wednesday, June 22, 2016

Yoga's Importance for Everyone

SHARE

कल सारे देश में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया गया। कहते हैं कि  योग  करने से शरीर, मन और मष्तिष्क स्वस्थ रहते हैं। लेकिन सवाल यह है कि क्या  योग करना हर किसी  के लिए फायदेमंद है ? या कुछ यू कहे की कौन सा योग किस के लिए सही है और कौन सा गलत? इस बात का ध्यान रखना बहुत जरूरी है।  आइये  थोड़ा इस बारे में। 

योग करने के बारे में डॉक्टरो का मत है कि दिल के रोगी एवं हाई ब्लड प्रेशर  की शिकायत रहने वालो व्यक्तियों को केवल कुछ प्रकार के योग ही करने चाहिए।  इसी प्रकार गठिया की बीमारी वाले व्यक्ति सभी प्रकरर के योग नहीं कर  सकते। खासकर की जिनके पेट का ऑपरेशन हुआ है ऐसे लोग ऑपरेशन के कम से कम 6  महीने बाद ही योग करें। 

वर्तमान में प्राणायाम , कपाल भाति का बहुत प्रचलन हैं।  भारत में घर घर में ये दोनों ही प्रकार  के योग सामान्य रूप से  किये जाते है।  लेकिन आपको बता दे कि दिल के बीमार एवं हाई ब्लड प्रेशर वाले व्यक्तिओ के लिए ये दोनों ही योग नुक्सानदायक  हैं।  इनको करने से ब्लड प्रेशर बढ़ने की सम्भावना रहती है। ऐसे व्यक्ति अनुलोम विलोम कर सकते हैं। 


                                             

  
दिल के रोगी एवं हाई ब्लड प्रेशर  की शिकायत रहने वालो व्यक्तियों को योग बहुत ही सोच समझकर एवं सावधानी पूर्वक करना चाहिए। आइये अब नज़र डालते हैं कुछ विशेष प्रकार के आसनो पर ।  

  • वज्रासन  - जो लोग घुटने की समस्या से पीड़ित है, वह इस योग को न करे ना करें। पेट की समस्या वाले लोगो के लिए फायदेमंद है। 
  • गौमुख आसन - गठिया के रोगी , जिनके पेट का ऑपरेशन हुआ हो एवं हिर्दय रोगी इसे  न करें। 
  • मकरासन - कमर दर्द की शिकायत रखने वाले एवं दिल के रोगी न  करें।  
  • भुजंगासन - जिनके कंधे में जयदा दर्द रहता हो या जिनके  हुआ हो वह इस आसन को न करें। 
  • धनुरासन - दिल के रोगी ,  हाई ब्लड प्रेशर एवं   पेट के ऑपरेशन वाले  व्यक्ति इस योग को न करें। 
  • मत्स्यासन - दिल के रोगी ,  हाई ब्लड प्रेशर एवं   पेट के ऑपरेशन वाले  व्यक्ति इस योग को न करें। 
  • हलासन - दिल के रोगी , कमर दर्द एवं पेट के ऑपरेशन वाले व्यक्ति इस आसन को न करें।  
  • चक्रासन - दिल के रोगी , हाई ब्लड प्रेशर वाले व्यक्ति इस आसन को न करें।  




1 comment:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल बृहस्पतिवार (23-06-2016) को "संवत्सर गणना" (चर्चा अंक-2382) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete

अगर आपको पोस्ट पसंद आये तो कृपया ब्लॉग का अनुसरण करें और पोस्ट पर टिप्पणी के रूप में अपने सुझाव दे !

Recent Posts