Blogger Tips and TricksLatest Tips And TricksBlogger Tricks

Friday, June 17, 2016

Gases Harmful for Environment

SHARE


वर्तमान में दिन  प्रतिदिन हमारी धरती गर्म होती जा रही है। ग्लोबल वार्मिंग की समस्या बढ़ती जा रही है। धरती पर पाये जाने वाली जहरीली गैस  इस दशा के लिए काफी हद तक जिम्मेदार हैं। धरती को बचाने के लिए नए नए प्रयास किये जा रहे हैं।  इन प्रयासों में से एक प्रयास ऐसा भी है जिसके बारे में जानकर आप हैरान रह जायेगे। तो आये जानते हैं इस प्रयोग के बारे में।  

वैज्ञानिकों का कहना है की कार्बन डाई ऑक्साइड जैसी जहरीली गैसे इसके लिए जिममेदार हैं।  हाल ही में वैज्ञानिकों ने धरती को इन जहरीली गैसों  के प्रकोप बचाने बचाने के लिए एक नया तरीका ढूंढ  निकाला है।  यह ट्रिक और कुछ नहीं बल्कि  वैज्ञानिकों द्वारा  कार्बन ढाई ऑक्साइड जैसी जहरीली गैसों को अब बर्फीली चटटान के रूप में बदलने का तरीका खोज लेना  है।




आइसलैंड में वैज्ञानिकों ने अपने इस शोध को अंजाम दिया है।  इस शोध को साउथ पैटन यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर जुएर्ग  मैटर  एवं उनकी टीम ने अंजाम दिया है। उनके द्वारा इजाद किये गए इस नए तरीके से अब धरती पर सभी जहरीली और हानिकारक गैसों को पथ्थरो और चट्टानों  में बदला जा सकता है।  अपनी इस शोध में इन्होने 95 % कार्बन डाई ऑक्साइड को चट्टान  में बदलने में सफलता हासिल की है। 

इनके द्वारा किये गए इस शोध को कार्बफिक्स परियोजना का नाम  दिया गया है।  इस शोध के  प्रमुख श्री जुएर्ग मैटर'जी का कहना है की इस शोध की मदद से ग्लोबल वार्मिंग के समस्या से काफी हद तक निपटा जा सकता है।  

कार्बन डाई ऑक्साइड को चट्टान में परिवर्तित करने की प्रकिर्या के बारे में आपको बता दे की इसके दौरान सबसे पहले धरती की सतह  से लगभग 550  मीटर की गहराई कठोर में कार्बन डाई  ऑक्साइड   एवं  पानी दोनों को पहुंचाया  जाता है जहां पर यह एसिड मिश्रण चट्टानों को घुला देती है जिसमे कैल्सियम एवं मैगनीशियम  पायी  जाती है। फिर इस घुली हुयी चट्टान की कैल्सियम  चुना पथ्थर में तब्दील हो जाती है।  इस प्रकार से करबओं ढाई ऑक्साइड एक बर्फीले पथ्थर में बदल जाती है।  

2 comments:

  1. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, " सुपरहिट फिल्मों की सुपरहिट गलतियाँ - ब्लॉग बुलेटिन " , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  2. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (19-06-2016) को "स्कूल चलें सब पढ़ें, सब बढ़ें" (चर्चा अंक-2378) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete

अगर आपको पोस्ट पसंद आये तो कृपया ब्लॉग का अनुसरण करें और पोस्ट पर टिप्पणी के रूप में अपने सुझाव दे !

Recent Posts