Blogger Tips and TricksLatest Tips And TricksBlogger Tricks

Thursday, March 24, 2016

लीवर फैट - एक रिस्क जिंदगी के लिए !

SHARE
आज कल दिन प्रतिदिन नयी नयी बीमारियां लांच हो रही है।  पिछले कुछ सालो में ऐसी ऐसी बीमारियो के नाम सुनने में आये हैं जिनका कभी कोई पता ही नहीं था , लेकिन आजकल ये बीमारियां   अनजान गलियों से निकलकर मानव जीवन में आ गई हैं। 

Keywords:Fatty Liver Disease , Liver disease,
ऐसी ही एक बीमारी का नाम है - स्टिओटोसिस  जो की  लीवर में फैट जमने को कारण होती  है। लीवर में थोड़ी बहुत फैट का बनना एक  सामान्य बात है, लेकिन अधिक फैटी लीवर होने पर लीवर के वजन का 5 से 10% हिस्सा फैट होता है। अभी हाल ही में  हेपाटॉलॉजी के शोध पत्र में प्रकाशित डॉ योनोसी और साथियों की ताजा शोध के मुताबिक दुनिया भर में लगभग लगभग 25.24% लोगों में फैटी लीवर की समस्या पाई गई है। 
खाड़ी के देशों और दक्षिण अमेरिका में यह सबसे ज्यादा है, जबकि अफ्रीका में यह सबसे कम है। भारत में भी  30 से 40 प्रतिशत भारतीय  बीमारी के शिकार  हैं।  इस बिमारी से निपटने के लिए हमको अपनी कुछ आदतों में बदलाव करना होगा। अपनी खान पीन सम्बंधित आदतों में बदलाव करके बदला जा सकता है। सामान्यतः इसके लक्षण दिखाई नहीं देते और इससे कोई स्थायी क्षति नहीं होती । 

इस बिमारी के  बारे में जानकारी देते हुए इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) के मानद महासचिव डॉ. के.के. अग्रवाल  ने कहा है की कि मोटापा सबसे बड़ी समस्या है और इसके साथ एनएएफएलडी और पाचन तंत्र की गड़बड़ी का खतरा जुड़ा होता  है। 5% भी वजन कम करना काफी है, लेकिन हमें 10% कम करने का लक्ष्य रखना चाहिए ताकि मेटाबॉलिक सिंड्रोम के खतरे को टाला जा सके और फैटी लीवर की समस्या से बचा जा सके।  
चलते चलते बता दे की वैसे तो सामान्य फैटी लीवर से जीवन को इतना बड़ा खतरा नहीं होता, लेकिन इस पर  सूजन और लीवर पर रगड़ लगने का खतरा हो सकता है। चूंकि यह  बिमारी  मोटापे से जुड़ी है, इस वजह से लोगों को स्ट्रोक या हार्ट अटैक हो सकता है, जिन्हें एनएएसएच है उन्हें   खतरा ज्यादा है। 

                *******************  " होली  की हार्दिक शुभकामनाएं " **********************


4 comments:

  1. सेहत से सम्बन्धित अच्छी जानकारी।

    ReplyDelete
  2. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (25-03-2016) को "हुई होलिका ख़ाक" (चर्चा अंक - 2292) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    रंगों के महापर्व होली की
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  3. ज्ञानवर्धक पोस्ट...

    ReplyDelete

अगर आपको पोस्ट पसंद आये तो कृपया ब्लॉग का अनुसरण करें और पोस्ट पर टिप्पणी के रूप में अपने सुझाव दे !

Recent Posts