Blogger Tips and TricksLatest Tips And TricksBlogger Tricks

Wednesday, September 16, 2015

आखिर क्यों है इतना कुपोषण ?

SHARE

हमारा देश ऋषि मुनियो के समय से ही प्रकृति की एक अद्भुत देन है। जहा पर अनेक प्रकार के औषधीय पौधे ,जड़ी बूटी, फल फूल , मेवे , आनाज फसल , वनसप्ति , घी ,दूध सभी चीज़ो का भण्डार  हमेशा से रहा है।  हमारे देश में उन सभी चीज़ो का पर्याप्त भण्डार है जो एक स्वस्थ शरीर के लिए आवश्यक हैं किन्तु फिर भी आज अनेक लोग ऐसे हैं जो कुपोषण के शिकार हैं क्यों की उनको पौष्टिक आहार नही मिल पाता। 

Keywords: कुपोषण पर एक विशेष रिपोर्ट, kuposhan in india, report on kuposhan in india,report on kuposhan in world, reason of kuposhan in india, solution for kuposhan in india
अगर हम वर्तमान समय की बात करे तो हम पायेगे की हम पैसा कमाने के चक्कर में इतने लालची हो गए हैं की हर चीज़ में मिलावट करने लगे हैं।  दूध ,घी से लेकर फलो एवं सब्जी आदि में रासायनिक पदार्थो को मिलाने लगे हैं।  महंगाई ने इतनी कमर तोड़ राखी है की गरीब  आदमी प्रतिदिन फलो एवं दूध आदि का सेवन भी नही कर पाता। यह हमारे देश की विडंबना ही है की जहा एक ओर मंदिरो के आगे बैठे ,चौराहो  पर बैठे बच्चे एवं बड़े 2 वक़्त की रोटी के लिए मोहताज हैं ,घी दूध तक नसीब नही हो पाता, वही दूसरी ओर अंधविश्वास में डूबे लोग मंदिरो में शिवलिंग पर दूध चढ़ाकर  इतना दूध व्यर्थ करते हैं। जरा सोचिये अगर यही दूध इन जरूरतमंदो को मिलता तो कितना अच्छा होता। 
अभी हाल ही में आई एक विशेष रिपोर्ट के अनुसार आज सारे विश्व में हर 3 व्यक्तियों में से 1  व्यक्ति कुपोषण का शिकार है। हर देश में आज कुपोषण एक गंभीर समस्या है। एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है। हाल ही में "थिंक टैंक इंटरनेशनल फूड पॉलिसी रिसर्च इंस्टीट्यूट (आईएफपीआरआई)" की ओर  से जारी की गयी ग्लोबल न्यूट्रीशन रिपोर्ट के अनुसार  कुपोषण समाधान के लिए जो उपाय  हैं उन्हें धन, कौशल या राजनीतिक दबाव के कारण लागू किये जाने पर ध्यान नहीं दिया  जा रहा है। 
इस रिपोर्ट में कहा गया है कि  ‘कुपोषण बदलाव का वाहक या प्रगति का बाधक भी हो सकता है" इसलिए  हर देश के नेताओं को कुपोषण को गंभीरता के साथ लेना चाहिए। इसे किसी भी रूप में खत्म करने का प्रयास करना चाहिए।’ आईएफपीआरआई के वरिष्ठ शोधार्थी और रिपोर्ट के प्रमुख लेखक लॉरेंस हड्डाड ने एक बयान में कहा, ‘जब हममें से हर तीन में एक व्यक्ति अक्षम है तो परिवार, समुदाय और देश के तौर पर हम आगे नहीं बढ़ सकते' . बात भी सही है अगर तीन लोगो में से हर एक लोग कुपोषण का शिकार होगा तो हम कहा से उन्नति करेंगे ?

No comments:

Post a Comment

अगर आपको पोस्ट पसंद आये तो कृपया ब्लॉग का अनुसरण करें और पोस्ट पर टिप्पणी के रूप में अपने सुझाव दे !

Recent Posts