Blogger Tips and TricksLatest Tips And TricksBlogger Tricks

Friday, August 28, 2015

सफल रहा GSLV-D6 की मदद से उपग्रह GSAT-6 का प्रक्षेपण !

SHARE

" 27 अगस्त 2015 को शाम  4 बजकर 52 मिनट पर  भारत ने श्रीहरि कोटा  स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से अंतरिक्ष विज्ञान के क्षेत्र में एक नयी सफलता को हासिल किया है। यह निश्चित रूप से ही भारत के लिए सफलता का दिन है। भारत  ने अपने नये उपग्रह जी सेट 6  का सफलतापूर्वक प्रक्षेपण किया। अंतरिक्ष वैज्ञानिको ने इसके सफल प्रक्षेपण के  कारण संचार सेवाओ  में  सुधार होनी की आशा व्यक्त की है।  "


Keywords: Successful launching of GSAT 6 Using GSLV-D6 in hindi, Geostationary Satellite Launch Vehicle (GSLV-D6) in hindi,launching detail of GSAT 6 in Hindi, ISRO Launched GSAT 6 Using GSLV D6 in hindi, second successful GSLV launch using an indigenous cryogenic engine , Success got by ISRO on 27 August 2015 in Hindi
इस नए भारतीय उपग्रह GSAT 6  को GSLV-D6 रॉकेट की मदद से अंतरिक्ष में  प्रक्षेपित  किया गया है। GSLV-D6 की ख़ास  बात  यह है कि  इसके इंजन को  क्रायोजेनिक तकनीक की मदद से बनाया गया है।  इसलिए यह सफल प्रक्षेपण भारत के और भी महत्वपूर्ण है क्यों कि   भारत ने अपने दम पर  क्रायोजनिक इंजन बनाया है। अपनी इस सफलता की वजह से भारत की इसरो (ISRO) अंतरिक्ष संस्था  आज  अमेरिका, रूस, जापान, चीन और फ्रांस की अंतरिक्ष एजेंसियों के बाद ऐसी छठी अंतरिक्ष एजेंसी है ,जिसने स्वदेशी क्रायोजेनिक तकनीक  का सफलतापूर्वक प्रयोग  किया है।  

यह  भारत के लिए क्रायोजेनिक तकनीक के प्रयोग का दूसरा अवसर है। इससे पहले 5  जनवरी 2014  को भारत ने क्रायोजेनिक तकनीक से बने इंजन का   इस्तेमाल  GSLV-D5 के प्रक्षेपण में भी किया था। जो की सफल रहा था।  सफलता की यह राह इतनी आसान नही थी पिछले कुछ  वर्षो में भारत   ने इस हेतु  काफी  प्रयास  किये  थे  परन्तु  सफलता नही मिल  पायी  थी जैसे की इस हेतु भारत ने 15 अप्रैल 2010 में  प्रक्षेपण किया था परन्तु वह सफल नही रहा था। 

इस सफल प्रक्षेपण को मिशन के निदेशक ने आर. उमा महेश्वरन जी  ने ‘ओणम का तोहफा’ बतया है।  उन्होने कहा कि  यह भारत में ही विकसित क्रायोजेनिक इंजन  से युक्त  एक भरोसेमंद प्रक्षेपण है , जो की 2-2.5 टन श्रेणी के उपग्रहों का प्रक्षेपण कर सकता है। यहाँआपको बता दे की अक्सर 2  टन  से अधिक भार वाले उपग्रहो के प्रक्षेपण के लिए उन  रॉकेट को सफल माना  जाता है जिनका इंजन आधुनिक क्रायोजेनिक तकनीक से बना होता है। 

क्रायोजेनिक इंजन वाले इस राकेट की मदद से जिस उपग्रह GSAT 6 को प्रक्षेपित किया गया है।  इस उपग्रह से जुड़े  कुछ महत्वपूर्ण तथ्य इस प्रकार हैं -
    
  • GSAT-6 इसरो द्वारा निर्मित 25 वां भू-स्थतिक संचार उपग्रह है। 
  •  GSAT श्रृंखला में यह 12वां उपग्रह है। 
  •  यह उपग्रह एस-बैंड में पांच स्पॉट बीम और सी-बैंड में एक राष्ट्रीय बीम से युक्त  है। 
  • GSAT 6 उपग्रह का लिफ्ट-ऑफ द्रव्यमान 2,117 किलोग्राम है। प्रणोदकों का वजन 1,132 किलोग्राम और उपग्रह का शुष्क द्रव्यमान 985 किलोग्राम है।
  • GSAT-6 उपग्रह का एक अत्याधुनिक पहलू इसका एस-बैंड का खुलने लायक एंटिना है जिसका व्यास छह मीटर  है। इसरो की ओर से तैयार किया गया यह सबसे बड़ा उपग्रह एंटिना है। 
  • GSLV D6 की ओर से भू-समकालिक स्थानांतरण कक्षा में स्थापित किए जाने के बाद GSAT-6 का नियंत्रण इसरो की मास्टर कंट्रोल फेसिलिटी के हाथों में चला गया है।
अंत में भारत की अंतरिक्ष संस्था ISRO  की टीम को  बहुत बहुत बधाई।  हम आशा करते हैं की यह सफलता भारत के लिए उपयोगी सिद्ध होगी। 


No comments:

Post a Comment

अगर आपको पोस्ट पसंद आये तो कृपया ब्लॉग का अनुसरण करें और पोस्ट पर टिप्पणी के रूप में अपने सुझाव दे !

Recent Posts