Blogger Tips and TricksLatest Tips And TricksBlogger Tricks

Sunday, May 3, 2015

असर तेरे इश्क़ का !

SHARE


हवाओ में आज फिर उस खुसबू को ढूंढ़ता हूँ !
फिजाओ में आज फिर उस रंगत को ढूंढ़ता हूँ !!
खिलते थे कभी यहाँ प्यार के जो फूल अक्सर ! 
आज फिर उन  फूलो की बहार ढूंढ़ता हूँ !!




घटते हुए पशु पक्षियों की खुशहाली ढूंढ़ता हु !
बहती हुयी नदी की साफ़ धारा  को ढूंढ़ता हु !!
क्यों हमने अपने इन दोस्तों से आज दुश्मनी कर ली !
घर के आँगन में चिड़ियों की चहचाहट ढूंढ़ता हु !!


बढ़ते समय के साथ साथ इंसान कितना बदल गया है , पैसे से इश्क़ का  कुछ  ऐसा असर हुआ की आज तकनीकी  खिलौनों   से ही फुर्सत नहीं , असली दोस्तों से कट्टी करते जा रहे हैं !

नोट : "भारतीय मौसम विज्ञान विभाग " पर मेरा आर्टिकल  पढ़ने  के लिए नचे दिए गए लिंक पर क्लिक करे

'भारत मौसम विज्ञान विभाग' का मौसमी सफर !

8 comments:

  1. बेहद सुन्दर।

    ReplyDelete
  2. बेहद सुन्दर।

    ReplyDelete
  3. बेहद सुन्दर।

    ReplyDelete
  4. तकनीकी का ज़माना है ... सच कहा है ...
    बहुत खूबसूरत पंक्तियाँ हैं ... फोटो भी सुन्दर है ...

    ReplyDelete
  5. बहुत ही सुन्दर व सार्थक प्रस्तुति मनोज जी ।

    ReplyDelete
  6. खूबसूरत पंक्तियाँ

    ReplyDelete
  7. मनोज बहुत ही अच्छा लिखा है , आप तो कविता में भी छुपे रुस्तम हैं।

    ReplyDelete

अगर आपको पोस्ट पसंद आये तो कृपया ब्लॉग का अनुसरण करें और पोस्ट पर टिप्पणी के रूप में अपने सुझाव दे !

Recent Posts