Blogger Tips and TricksLatest Tips And TricksBlogger Tricks

Wednesday, January 21, 2015

बिना इंजन वाली कार - "सॉल्ट वाटर और सोलर एनर्जी" से चलेगी कार !

SHARE
 आज की इस विशेष पोस्ट में मैं सभी सभी पाठकगणो का स्वागत करता हूँ।  इस पोस्ट में हम बात करेंगे एक नयी रिसर्च  की।  दोस्तों आपने पेट्रोल ,डीजल और  सी.एन .जी  से चलने वाली कारो को सड़क पर दौड़ते हुए तो देखा ही होगा।  पर क्या आपने सोचा है की नमके  पानी से भी कार को चलाया जा सकता है।  नहीं सोचा होगा  न।   पर अब सोच लीजिये की ये हो सकता है।  क्यों की भारत के "थाणे" में सरस्वती विधायलय हाई स्कूल और जूनियर कॉलेज ऑफ़ साइंस के  कुछ छात्रों ने साल्ट वाटर और सोलर एनर्जी के के संयुक्त रूप से  चलने वाली कार को बनाया है।  

 इन छात्रों ने NaCL (साल्ट वाटर) और सोलर एनर्जी की केमिस्ट्री  का  प्रयोग करके इस नयी  कार की हिस्ट्री लिखी है।   असल में इस कार को चलाने के लिए NaCL से बने सेल को सोलर एनर्जी के साथ प्रयोग किया गया है।  स्कूल की प्रधान अध्यापिका श्रीमती अनीता पिंटू जी के अनुसार XI और  XII क्लास के पांच छात्रों की टीम ने इस काम को अंजाम दिया है।  इनके द्वारा  बनाये गए कार के मॉडल को मणिपाल  यूनिवर्सिटी में आयोजित आल इंडिया कम्पटीशन में चयनित किया गया है। इन पांचो छात्रों  के नाम नेहा पाटिल , श्रद्धा  प्रभु,अमेय परब, आकाश डोलस , समृद्धि  वैद्य हैं।  इस टीम ने इस प्रोजेक्ट को अपने टीचर स्वप्निल सोनटके के निर्देशन में पूरा किया है।   इस कर की सबसे अजीब बात ये है कि ये देखने में तो अन्य करो के जैसे ही है परन्तु अन्य करो कि तरह इसमें को भारी भरकम इंजन नही है असल में इंजन है ही नही।   इसके द्वारा कोई वायु प्रदुषण भी नही होगा।  इस कार के अगले पीछे में एक इलेक्ट्रॉनिक सर्किट है और अगले हिस्से में सेल यूनिट और सोलर यूनिट। 



सच में हमारे देश में प्रतिभाओ के कमी नहीं है , जरूरत है तो उनको सही मार्गदर्शन और उनका  प्रोत्साहन करने की।  मगर सोचता हु तो एक अफसोस होता है कि  भारत सरकार जितना पैसा अन्य कामो पर खरच  करती है बजट पेश करते समय उसमे रिसर्च वर्क के लिए न के बराबर पैसा खर्च होता है।  जिसकी वजह से कभी कभी कुछ प्रोफेसर और उनके रिसर्च स्कॉलर छात्र साधनो और पैसो की कमी वहज से आगे बढ़ने का साहस नही कर पाते।  केवल डिग्री लेने तक ही वो रिसर्च सिमित रह जाती है।  हालांकि भारत सरकार रिसर्च स्कॉलर छात्रों को स्कालरशिप देती है परन्तु भारत सरकार को रिसर्च वर्क को अधिक गंभीरता के साथ और इसको विशेष महत्व देने की दिशा में कदम उठाने की जरूरत है।  इस काम में हम अन्य देशो की अपेक्षा अभी काफी पीछे हैं। अंत में इन सभी छात्रों और इनकी पूरी टीम को मेरी और से बहुत बहुत बधाई। 

इस पोस्ट में इतना ही। आपका दिन शुभ हो।  नमस्कार। 

Keywords: Car, Solar Energy, Salt water etc.

Reference : - http://www.drivespark.com/four-wheelers/2015

नोट : इस ब्लॉग के फेसबुक पेज के लिए ब्लॉग पर ऊपर दाई तरफ दिए गए फेसबुक बटन को लाइक करे। 


2 comments:

  1. बहुत अच्छी जानकारी.ऐसे अनुसंधान की अपने देश में बहुत आवश्यकता है.युवाओं को प्रोत्साहित किया जाना चाहिए.

    ReplyDelete

अगर आपको पोस्ट पसंद आये तो कृपया ब्लॉग का अनुसरण करें और पोस्ट पर टिप्पणी के रूप में अपने सुझाव दे !

Recent Posts