Blogger Tips and TricksLatest Tips And TricksBlogger Tricks

Monday, November 10, 2014

दूध पीने वाले हो जाए सावधान - एक विशेष रिपोर्ट।

SHARE
अरे ओ छोटू !

हाँ चाचा !

कछु सुनत रहो की नाय !

का चाचा का भयो ?

अरे छोटू हम सुनत रहे हैं कि ज्यादा दूध पीना स्वास्थय के लिए हानिकारक है , ऐसा करने से मौत जल्दी आ जाती है !
Keywords: effects on health of drinking more milk in a day in Hindi, drinking more milk is harmful for health in Hindi

चाचा  किसी ने कभी सोचा भी नही होगा कि युगो युगो से  स्वास्थय के  लिए वरदान समझे  जाने वाले दूध को कलयुग  में इस कलंक का सामना करना पड़ेगा।  एक तो पहले ही  चाय , कॉफी जैसी चीजे आज कल लोगो कि डार्लिंग  बन चुकी हैं,  और अब इस रिपोर्ट के बाद कही दुनिया वाले दूध से बिलकुल ही तौबा न कर ले।  

हाँ शायद ऐसा ही होगा !!


जी हाँ दोस्तों , हो सकता है ऊपर कही बात आपको थोड़ी अजीब  लगे पर कुछ वैज्ञानिक अपने शोधो के परिणाम के अनुसार इस बात को बिलकुल सच मान रहे हैं कि प्रतिदिन तीन गिलास या उससे से ज्यादा दूध पीना मतलब अपनी मौत को जल्दी बुलावा देना है।  अब तक स्वास्थय के लिए सबसे अहम समझे जाने वाले दूध को संपूर्ण  पोषण देने वाला एकमात्र आहार माना   जाता रहा है।   अक्सर हमारे घरो में किसी को  चोट लग जाने पर या शरीर में जयदा दर्द होने पर दूध में हल्दी मिलकर पीने के लिए दिया जाता है जिससे आराम मिलता है , लेकिन अब एक नयी रिसर्च सामने आई है जिसके अनुसार ज्यादा  दूध पीने से हमारे शरीर में हडिड्यों के टूटने का खतरा बढ़ जाता है और मौत के जल्दी आने के सम्भावनाये भी बढ़ जाती है।  अक्सर  डॉक्टर हड्डियों की मजबूती के लिए कैल्सियम और दूध पीने का सुझाव देते हैं ,लेकिन ये रिसर्च उल्टा ही परिणाम दर्शा रही है.   आइये  जानते हैं क्या है ये  रिसर्च और इसके परिणाम ? 

हाल ही में स्वीडन में  किये गए एक विशेष शोध में ये पाया गया है कि  ज्यादा दूध पीने से हड्डियों के टूटने कि सम्भावनाये बढ़ जाती है और शारीरिक तनाव भी बढ़ता है. इस शोध के दौरान स्वीडन में  पिछले  20  वर्षो में  महिलाओ और पुरुषो  दोनों पर एक विशेष सर्वे किया गया।   




महिलाओ पर किये गए सर्वे में ये पाया गया कि 15541  महिलाये जल्दी मर गयीं , जबकि 17252  महिलाओ   कि हड्डियों में फ्रैक्चर हुए और ऐसा कुछ नहीं पाया गया  जिसके आदः पर  वो ये कह सके कि ज्यादा  दूध पीने से हड्डिया मजबूत होती हैं।   इस शोध में लगे वैज्ञानिको ने ये भी निष्कर्ष निकला कि स्वीडन में जो औरते प्रतिदिन 3 गिलास से ज्यादा दूध पीती हैं उनकी मौत जल्दी होने की अधिक सम्भावनाये हैं , उन औरतो की तुलना  में जो कि प्रतिदिन एक गिलास दूध पीती हैं।  

इसी प्रकार का एक सर्वे स्वीडन में पुरुषो पर  पिछले 11  वर्षो में  किया गया जिसमें  ये पाया गया कि 10112 मर चुके 5,066 कि हड्डियों में फ्रैक्चर हुए . ये औसत महिलो कि तुलना में थोड़ा काम है पर वैज्ञानिको ने कहा है कि अधिक दूध पीने वाले पुरुषो कि मौत कि अधिक सम्भावनाये हैं।  शोधकर्ताओं का कहना है कि दूध में में अधिक मात्र में पाया जाता है जिसका स्वाद शुगर से थोड़ा काम मीठा होता है जो कि मानव शरीर में स्ट्रेस , सूजन और जलन को बढ़ावा देता है इस शोध को स्वीडन कि उपसाला यूनिवर्सिटी के सर्जिकल साईन्स विभाग के लोगो द्वारा अंजाम दिया गया उनका इस शोध कार्य और उनके परिणाम को ब्रिटिश मेडिकल जरनल में प्रकाशित किया गया है।  


वैसे तो आज कल जयदा लोगो का जागना , सोना चाय और कॉफी के साथ ही होता है और दिन में भी 2  या 3  बार चाय को किश कर ही लेते हैं आखिरकार ये जीवन संगनी जो बन गयी हैं. हर चीज़ के जहा अपने फायदे हैं वह कुछ नुक्सान भी हैं मैं  ये तो नही कहता कि चाय और कॉफी पीना दूध  पीने से बेहतर है पर ज्यादा दूध पीना भी एक खतरा हो सकता है ! इस शोध की अधिक जानकारी के लिए आप रिफरेन्स में दिए गए लिंक पर क्लिक कर पढ़ सकते हैं।  

नोट : मैं  ने कल ही अपने इस  ब्लॉग के लिए फेसबुक पेज भी बनाया है इसलिए आपसे  अनुरोध है कि जो पाठकगण फेसबुक पर ब्लॉग पढ़ते या लिखते हैं , वो मेरे ब्लॉग पर लगे के  डायनामिक  फेसबुक पेज को फॉलो करें ताकि मैं उनके कमेंट और सुझाव पढ़ सकूँ !   


Reference:   [1 ] http://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmedhealth/behindtheheadlines/news/2014-10-29-milk-may-be-linked-to-bone-fractures-and-early-death/
                       [2 ] http://www.medicalnewstoday.com/articles/284530.php

   



   

6 comments:

  1. आजकल रोज नए नए रिसर्च के परिणाम आते रहते हैं..साधारण आदमी को निर्णय लेना बहुत कठिन हो जाता है...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय कैलाश जी सही कहा आपने लेकिन औसत एक दिन में 2 गिलास दूध एक स्वस्थ शरीर के लिए काफी है !

      Delete
  2. ye lo e ka hui gwa..ab ek aaur jhatka.. waise haddi paajar kamjor hai toot gye to kahan jaayenge,.,.bahut sadme waali jankari,... sunder prastuti ....aabhar,..

    ReplyDelete
    Replies
    1. आप चिंता न करें ये सर्वे स्वीडन देश में किया गया है , वहा की जलवायु , भैंसो को खिलाने वाले चारे का असर भी दूध पर पड़ता होगा . शायद भारत की जलवायु और पशुओ को दिया जाने वाला चारा वह से अच्छा हो , फिर भी एक दिन में २ गिलास दूध काफी है !

      Delete
  3. बहुत सटीक बात कही है !
    घडा दूध का विष भरा !

    ReplyDelete
  4. your writing skills and thoughts are heart touching keep it up dear
    our blog portal is http://www.nvrthub.com

    ReplyDelete

अगर आपको पोस्ट पसंद आये तो कृपया ब्लॉग का अनुसरण करें और पोस्ट पर टिप्पणी के रूप में अपने सुझाव दे !

Recent Posts