Blogger Tips and TricksLatest Tips And TricksBlogger Tricks

Saturday, April 26, 2014

साहब मै मख्खन बेचता हूँ !!

SHARE
कल शाम जब मार्केट से गुजरा तो देखा की एक दूकान पर बहुत भीड़ लगी हुयी थी ! मन में जिज्ञासा हुयी क्यों न इस दूकान पर जाकर देखा जाए की आखिर यहाँ ऐसी क्या व्यवस्था है जो इतने लोग लाइन लगाकर खड़े हुए हैं !
जब दूकान पर गया तो दूकान वाले ने कहा साहब मै मख्खन बेचता हूँ लेना है तो आप भी लाइन में जाकर खड़े हो जाओ , मै ने कहा मै आपसे कुछ पूछना चाहता हूँ , दूकान वाले भैया ने कहा अभी डिस्टर्ब मत करो , 9 बजे के बाद आना तब तक भीड़ खत्म हो जायेगी , मै ने कहा ठीक है साहब अब तो 9 बजे के बाद ही आउगा !!
जब 9 बजे के बाद गया तो उसने कहा हाँ साहब अब पूछो क्या पूछना चाह रहे थे !
मै ने कहा भाई ये मख्खन बेचकर कितना  कमा  लेते हो? तब उसने कहा साहब मख्खन की बहुत बिक्री है आजा कल मेरा ये धंधा फिलहाल मंदा होने वाले नहीं है , रोज हज़ार हज़ार के नोट बना लेता   हूँ !




मै ने कहा भाई आपके यहाँ कितने प्रकार का मख्खन मिलता है ?
साहब हर प्रकार का मिलता है आपको कौन सा चाहिए ?
मै ने कहा नहीं पहले आप मुझे आप उन सभी मख्खन के बारे में बताओ जो आप बेचते हो जो अच्छा लगेगा वो लूँगा !
साहब पहला मख्खन मै वो बेचता हूँ जिसको आप ऑफिस में अपने बॉस को लगाकर अपने प्रमोशन और सैलरी इन्क्रीमेंट करवा सकते हो !!
साहब दूसरा मख्खन वो है जो मार्केट में नया नया आया है इसको student लोग खरीदते हैं वो इसको अपने गुरुजनो को लगाकर अच्छे मार्क्स और ग्रेड लेते हैं iski बहुत बिक्री है आजा कल !!
तीसरा मख्खन वो है जिसको लोग किसी नेता , अधिकारी या सगे सम्बन्धी को लगाकर अपने सम्बन्धो को मधुर बनाये रखते हैं. !!
साहब चौथा मख्खन वो है जिसे आप अपने दोस्तो को लगाकर उनके प्रिया बने रहते हैं और अपन काम भी निकाल लेते हैं !!
साहब पाचवा मख्खन वो है जिसको आप अपने घर में भाई बहन चाचा ताऊ को लगाकर अपनी जिद पूरी करा सकते हो !
साहब बस इतने ही मख्खन है बस !!
मै ने कहा भाई मुझे वो मख्खन दो जो माँ बाप को लगाया जा सके !
साहब धंधे का सवाल है , झूठ नही बोलुँगा , मख्खन तो वो वाला भी है मेरे पास पर वो जयदा देर तक काम नहीं करता उसकी पावर कम है वो अस्थायी रूप से काम करता है वो भी समय सही रहा तो !
मै ने कहा तब मै चलता हूँ , अच्छा भाई धन्यवाद , नमस्कार , कुछ कदम चला ही था की मन में एक नया सन्देश आया , केवल माँ बाप का रिस्ता ही सुधारता है , बाकी सारी दुनिया सजा देती है साहब ! बाकी सारी दुनिया सजा देती है !! 

7 comments:

  1. बहुत सटीक व्यंग...

    ReplyDelete
  2. वाह रे मक्खन गजब तेरी माया सटीक विवेचना
    बहुत बढ़िया पोस्ट ------

    आग्रह है---- मेरे ब्लॉग में भि सम्मलित हों
    और एक दिन

    ReplyDelete
  3. कैलाश जी और जोय्ति खरे जी बहुत बहुत बहुत आभार !!

    ReplyDelete
  4. कृपया वर्ड बेरिफिकेशन टिपण्णी से अविलम्ब हटा दे अन्यथा अधिकांस लोग व्यस्तता के दौर में टिपण्णी नहीं कर सकेंगे ।

    ReplyDelete
  5. सभी पाठकगणो का शुक्रिया !

    ReplyDelete

अगर आपको पोस्ट पसंद आये तो कृपया ब्लॉग का अनुसरण करें और पोस्ट पर टिप्पणी के रूप में अपने सुझाव दे !

Recent Posts