Blogger Tips and TricksLatest Tips And TricksBlogger Tricks

Saturday, August 17, 2013

Electricity from Human Urine / मानव मूत्र से प्राप्त होगी ऊर्जा

SHARE

"Using the ultimate waste product as a source of power to produce electricity is about as eco as it gets," said Dr. Ioannis Ieropoulos of the Bristol Robotics Laboratory in England. His lab has created electricity by passing human urine through stacks of microbial cells. They react with compounds like chloride, sodium and potassium to give off a charge that's enough to make a brief call.



अरे ओ छोटू !!

हाँ चाचा !

कछु सुनत रहो की नाय ?

का चाचा का भयो ?

यही की अब वैज्ञनिको ने एक ऐसी खोज  की है जिसकी मदद से मनष्य के मूत्र  से कुछ हद तक ऊर्जा उत्पन्न की जा सकती है और इस प्रकार उत्पन्न ऊर्जा से आप अपना मोबाइल  रीचार्ज कर सकते हो !

चाचा अगर सच में दैनिक जीवन में ऐसा होने लागा तो मानव मूत्र भी अब बेकार नहीं जाया करेगा मतलब वो भी कीमती है अब !

हाँ छोटू शायद ऐसा ही होगा !

जी हाँ शायद पोस्ट पढकर  आपको थोडा अजीब सा लगे  पर वैज्ञानिको ये अब संभव कर दिखाया है ये है अब तक गाय के मूत्र का उपयोग दवाई बनाने में किया जाता था लेकिन अब मानव मूत्र भी बेकार नहीं है मानव मूत्र की शक्ति को वैज्ञानिको ने पहचान  लिया है
electricity by passing human urine through stacks of microbial cells in hindi, मनष्य के मूत्र से कुछ हद तक ऊर्जा उत्पन्न, Research Dr. Ioannis Ieropoulos of the Bristol Robotics Laboratory in England on human urine,human urine through stacks of microbial cells, definition of microbial cells, what is microbial cell


ब्रिटेन के वैज्ञानिकों ने ऐसी अनोखी विधि की खोज की है जिसके बारे में उनका कहना  है कि उसका उपयोग कर मोबाइल फोन को मानव मूत्र की सहायता से चार्ज किया जा सकता है. ब्रिस्टल रोबोटिक्स लैबोरेटरी में काम करने वाले वैज्ञानिकों ने यह ‘‘महत्वपूर्ण’’ खोज की है. खोज में उन्होंने पाया कि मूत्र के जरिए बिजली उत्पन्न कर मोबाइल फोन को चार्ज किया जा सकता है. यूनिवर्सिटी ऑफ द वेस्ट ऑफ इंग्लैंड (यूडब्ल्यूई), ब्रिस्टल के विशेषज्ञ डॉ. लोएनिस लेरोपौलस ने कहा कि हम इस बात से बेहद उत्साहित हैं कि ऐसा दुनिया में पहली बार हुआ है. किसी ने मूत्र से ऊर्जा उत्पन्न नहीं की थी. इस तरह की खोज बहुत उत्साहवर्धक है. 

इस अपशिष्ट पदार्थ को बिजली उत्पन्न करने के लिए ऊर्जा के रूप में प्रयोग करना पर्यावरण के लिए भी सही है. लेरोपौलस ने कहा कि हमारा मूत्र एक ऐसा उत्पाद है जो कभी भी खत्म नहीं हो सकता. इससे ऊर्जा उत्पन्न करने के लिए मूत्र को माइक्रोबियल ईंधन कोशिकाओं (एमएफसीज) के कैसकेड से प्रवाहित किया जाता है जिससे बिजली उत्पन्न होती है. 
दोस्तों अब देखना  ये है की कब तक हम लोग अपने मूत्र से होने वाले इस फायदे का  लाभ ले पायेगे ! 

No comments:

Post a Comment

अगर आपको पोस्ट पसंद आये तो कृपया ब्लॉग का अनुसरण करें और पोस्ट पर टिप्पणी के रूप में अपने सुझाव दे !

Recent Posts