Blogger Tips and TricksLatest Tips And TricksBlogger Tricks

Tuesday, November 15, 2011

बाल दिवस पर विशेष

SHARE




हर साल 14 नवम्बर को बाल दिवस के रूप में मनाया ज़ाता है . हमारे देश कि सबसे बड़ी ख़ास बात ये है कि यहाँ नियम क़ानून तो हर चीज़ के लिए बने है पर उनको फोलो करने वाले बहुत ही कम है और कितना फोलो किया ज़ाता है ये तो आप जानते ही हो . जब सुबह सुबह मै कॉलेज की बस में ज़ाता हूँ तो देखता हू कि कुछ लोग कितने गलत तरीके से गाडी को ओवरटेक करते है और रेड लाइट होने पर भी गाडी को निकाल ले जाते है. यातायात पुलिश क़ा चौराहे पर खड़ा एक अकेला कर्मचारी अब रोके भी तो किस किस को रोके. कभी कभी जब दीवान जी भी उसके साथ होते है तो जरूर चालान कट ज़ाता है. यही है भारत के अधिकतर लोगो ई सोच वो अपनी मन मर्जी करते है सारे नियमो को ताख पर रख कर .

इसी तरह के कुछ नियम क़ानून यहाँ पर बाल मजदूरी को लेकर भी बनाए गये है. 15 साल की ऊम्र से कम बच्चे के द्वारा मजदूरी करवाना कानून अपराध है. लेकिन आप किसी भी हलवाई , चाय वाले, होटल, ढाबे पर चले जाये वहा पर अक्सर बाल मजदूर आपको देखने के लिए मिल ही जाते है .हम लोग भी जो बाल मजदूरी के खिलाफ है जब हम चाय वाले की दूकान पर जाते है तो कहते है "ओये छोटू दो चाय ला ".जब हम लोग इन दुकानों के मालिको से मालुम करते है कि बच्चो से क्यों काम करवाते हो तो उनका कहना होता है कि इनके माता पिता ही इनको हमारे पास छोड़कर जाते है. और उनका ये कहना काफी सही भी है. चाहे छोटा सहर हो या बड़ा बाल मजदूर आपको हर जगह देखने को मिलते है. मै अक्सर कूड़े के ढेर से छोटे छोटे बचो को प्लास्टिक की चीज़े और पन्नी या पोलिथीन छांटते हुए देखता हू ओन्नके पैरो में ना तो चप्पले होती है और ना ही वो गंदगी की परवाह करते बस अपने काम में लग जाते है . इसी तरह से आपको बसों में छोटे छोटे बच्चे , पानी की बोटेल, मूंगफली, खीर , गोला, दाल आदि बेचते हुए भी दिखाई देते होंगे. कुछ बच्चे तो बसों में गाना गाकर पैसे लेते है .ये सब उनकी मजबूरी है साहब . सोचता हू की क्या इन बच्चो को और बच्चो की तरह खेलने और अपने बचपन को जीने क़ा हक़ नहीं ? क्या इनको स्कूल जाने क़ा हक़ नहीं? जब हम इन सब सवालों क़ा जवाबा इनके माता पिता से मागते है तो उनकी आँखों में आसू आ जाते है वो कहते है की साहब हम गरीब लोग है अगर इनको काम पर ना भजे तो हम पेट कैसे भरेंगे?


तो कुल मिलाकर अंत में बात आती है गरीबी पर ये अपने आप में बहुत बड़ी समस्या है जिसका जायदा जिकर मै यहाँ नहीं करूंगा पर इतना जरूर कहूँगा की जब तक हमारे देश में ये गरीबी रहेगी तब तक ये बच्चे एक खुशाल बचपन नहीं जी पायेंगे और ना ही पढ़ लिख पायेंगे सही से. गरीब माँ बाप भी अपने बच्चो के लिए कहते है कि
" मेरे बच्चे भी अपनी गरीबी की समझ रखते है , तभी तो घर के वर्तनो को ही अपना खिलौना बना लेते है ".
---मनोज बिजनौरी

9 comments:

  1. गरीबी सब कुछ करवा देती है वरना कौन माँ बाप अपने बच्चों को काम पर भेजें!!

    Gyan Darpan
    Matrimonial Site

    ReplyDelete
  2. दुखद और विचारणीय पोस्ट .....

    ReplyDelete
  3. बहुत कुछ पठनीय है यहाँ आपके ब्लॉग पर-. लगता है इस अंजुमन में आना होगा बार बार.। मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है । धन्यवाद !

    ReplyDelete
  4. कडवी वास्तविकता जो बच्चों से उनका बचपन छीन ले रही है!!बाल दिवस पर इस नज़रिए से देखने दिखने के लिए आभार .

    ReplyDelete
  5. मार्मिक चित्र गरीबी सब कुछ कराती है सुंदर पोस्ट ...
    मेरे पोस्ट में स्वागत है ,,,

    ReplyDelete
  6. भाई मनोज जी बहुत उम्दा लिखा है अपने बधाई और शुभकामनायें

    ReplyDelete
  7. बहुत जवलंत मुद्दा उठाया है आपने, मगर ये बच्चो की बदकिस्मती ही कहिये की
    बाल मजदूरी के खिलाफ कानून बनाने वाले खुद ये आवाज लगते है " अरे छोटू ! दो चाय लेकर आओं "

    ReplyDelete
  8. सही तस्वीर पेश की है आपने ...!

    ReplyDelete

अगर आपको पोस्ट पसंद आये तो कृपया ब्लॉग का अनुसरण करें और पोस्ट पर टिप्पणी के रूप में अपने सुझाव दे !

Recent Posts